एक कहावत है हाथ आया पर मुँह को न लगा. इसी को चरितार्थ कर रही है एयरटेल और जियो की आपसी जंग. कभी पूरे भारत में एयरटेल का दबदबा हुआ करता था. फिर बाजार में आया जियो और पूरा खेल ही पलट गया. जाहीर है अब तकनीक एक बार फिर बदल रहा है और इस बार एयरटेल फिर से बाजी पलटता नजर आ रहा है. Jio Vs Airtel में हारा Jio? #Airtel5G की भारत में पहली टेस्टिंग.

Jio Vs Airtel में हारा Jio? #Airtel5G की भारत में पहली टेस्टिंग

Jio Vs Airtel में कैस हारा Jio?

जियो काफी समय से सैमसंग और क्वालकॉम जैसी कंपनियों के साथ मिलकर 5G पर काम कर रहा है. उसने कहा था कि 5G स्पेक्ट्रम की सेल होने के बाद वो साल 2021 की दूसरी छमाही में 5G का परीक्षण करेगा. लेकिन एयरटेल ने बिना नए स्पेक्ट्रम के ही 5G सर्विस चलाकर दिखा दी है. भारती एयरटेल 5G सर्विस का सफलतापूर्वक परीक्षण करने वाली देश की पहली टेलीकॉम कंपनी बन गई है. इस मामले में एयरटेल ने रिलायंस जियो को पीछे छोड़ दिया है.

क्या है एयरटेल की टेक्नोलॉजी?

खबर के मुताबिक, गुरुवार को भारती एयरटेल ने हैदराबाद के एक कमर्शियल नेटवर्क पर 5G का टेस्ट किया. अभी मिड-बैंड स्पेक्ट्रम बैंड (2.5GHz-3.7GHz) की नीलामी नहीं हुई है, लेकिन एयरटेल ने मौजूदा 1800MHz, 2100MHz और 2300MHz स्पेक्ट्रम को मिलाकर ही 5G टेक्नॉलजी को चला लिया. इसका मतलब है कि अगर सरकार अनुमति दे तो ये 4G और 5G एक ही स्पेक्ट्रम बैंड पर चला लेंगे.

हालांकि कहा जा रहा है कि ये असली वाले 5G एक्सपीरियंस से कमतर होगा. भारती एयरटेल के MD और CEO गोपाल वित्तल का कहना है कि उनकी कंपनी का नेटवर्क मौजूदा स्पेक्ट्रम पर 5G सर्विस चालू करने के लिए पूरी तरह से रेडी है, लेकिन असली 5G एक्सपीरियंस तभी मिल पाएगा, जब नए नेटवर्क के लिए सरकार मिड-बैंड स्पेक्ट्रम बांटेगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your name here
Please enter your comment!