यह प्रश्न कि लाइफ को सही डायरेक्शन देने के लिए आखिर किससे इंस्पायर होना चाहिए? आज कई लोगों के जीवन का यक्ष प्रश्न गया है. लेकिन इसका जवाब शायद ही किसी को पता चल पाता है. तो आइए आज इसी पर विचार करते हैं कि आखिर Inspiration for Life का जवाब क्या होना चाहिए?

सही Inspiration for Life के लिए आखिर किससे इंस्पायर होना चाहिए सही Inspiration for Life के लिए आखिर किससे इंस्पायर होना चाहिए

Inspiration for Life

सामान्य बने रहने के लिए प्रेम आवश्यक है. और प्रेम डायरेक्टली मन से जुड़ा है. मन से ज्यादा स्ट्रांग कुछ भी नहीं है. मन का भटकना जीवन में आए भसड़ का कारण है जबकि मन की स्थिरता जीवन में शान्ति का अहसास कराती है. आपने भी महसूस किया होगा कि जब मन प्रेम से भरा होता है तो हम बहुत खुश होते हैं. किंतु प्रेम कर पाना जीवन का सबसे कठिन काम है. इसके लिए मन से सारे मैल मिटाने पड़ते हैं इसे निर्मल बनाना पड़ता है. यह महान साधना है.

क्या कहता है आध्यात्म?

घर, परिवार और समाज त्यागने से नहीं, मन के विकार त्यागने से निर्मलता प्राप्त होती है. दूसरा सबसे बड़ा आधार है विश्वास. सारे संशय दूर हो जाएं, भ्रम मिट जाएं और मार्ग स्पष्ट दिखने लगे, तभी मन में विश्वास के बीज अंकुरित होते हैं. विकारों को छोड़ने और विश्वास से ही मन में प्रेम की तरंगें उठने की स्थितियां बनती हैं. संसार में प्रेम को विभिन्न रूपों में देखा जा रहा है. अध्यात्म समस्त संबंधों को नाशवान और स्वार्थों पर आधारित मानता है. ज्यादातर हित साधन तक ही संबंध बने रहते हैं.

प्रेम का वास्तविक रूप

प्रेम का वास्तविक रूप परमात्मा से जुड़ने में है, जिसने सारे जीव पैदा किए हैं. जो सबका पिता है, उससे प्रेम का आनंद सदा बना रहने वाला और सुखदायक है. शुद्ध मन और अटूट विश्वास के साथ परमात्मा से प्रेम संबंध कायम करना ही उसे पाने का मार्ग है. मन में एक बार परमात्मा से प्रेम का रस पैदा हो जाए तो संसार के सारे रस फीके लगने लगते हैं और मन टिकने लगता है. ईश्वर स्वयं प्रेम स्वरूप है. अगर आप देखें तो यह समस्त प्रकृति भी प्रेम स्वरूप है. हमें प्रकृति से प्रेरणा लेकर अपने जीवन को नई दिशा देनी चाहिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your name here
Please enter your comment!