वैसे तो दुनिया में गुस्सा आने के कई कारण हैं. लेकिन कुछ लोगों को किसी विशेष प्रकार के आवाज से परेशानी होती है. इस कदर कि लोग झल्ला पड़ते हैं. जैसे लोग सांस लेने की आवाज़ से भी ग़ुस्सा हो जाते हैं. खाने की चपर-चपर या घिसने के आवाज से कुछ लोगों को गुस्सा क्यों आता है? जानकर हो जाएंगे हैरान Misophonia नामक अद्भुत बीमारी के लक्षणों के बारे में
जानकर हो जाएंगे हैरान Misophonia नामक अद्भुत बीमारी के लक्षणों के बारे में

क्या है Misophonia?

आवाज़ों से चिढ़ से होने वाली परेशानी को मिसोफ़ोनिया कहते हैं. कई तरह की आवाजें हैं जिनसे लोगों को चिढ़ होती है. जैसे नाखून से ब्लैकबोर्ड रगड़ने की आवाज़. ब्रितानी वैज्ञानिकों ने एक अध्ययन कर दिखाया कि कुछ लोगों का दिमाग़ ज़्यादा भावनात्मक प्रतिक्रिया देने लगता है. ओलना आठ साल की उम्र से ही इस तरह की आवाज़ों के प्रति संवेदनशील हो गईं. उन्हें खाने, सांस लेने और सरसराहट से भी चिढ़ होती है.

क्या कहते हैं विशेषज्ञ?

ब्रिटेन के वैज्ञानिकों ने विभिन्न केंद्रों पर 20 मिसोफ़ोनिक और 22 सामान्य लोगों के दिमाग़ को स्कैन किया. इन्हें एमआरआई करने वाली मशीन में बारिश जैसी प्राकृतिक आवाज़ और चिल्लाने जैसी कई तरह की आवाजें सुनाई गईं. इस अध्ययन के नतीज़े विज्ञान पत्रिका ‘करंट बायोलॉजी’ में प्रकाशित हुए हैं. इससे पता चलता है कि दिमाग़ का एक हिस्सा हमारे सेंस को हमारी भावनाओं से जोड़ता है. दिमाग़ में एंटीरियर इंस्यूलर कार्टेक्स नाम का यह हिस्सा मिसोफ़ोनिया में अत्यधिक सक्रिय रहता है. इस पर होने वाली प्रतिक्रिया अधिकतर ग़ुस्से के रूप में होती है.

क्या है इस बीमारी की विशेषताएँ?

जानकर हो जाएंगे हैरान Misophonia नामक अद्भुत बीमारी के लक्षणों के बारे में

हालांकि यह सामान्य व्यवहार जैसी ही प्रतिक्रिया होती है, लेकिन बाद में यह तीव्र हो जाती है. इसका कोई इलाज़ नहीं है. लेकिन ओलना ने इसका सामना करने के लिए इयर प्लग जैसी चीजों का इस्तेमाल करती हैं. वह यह भी जानती हैं कि कैफ़ीन और शराब इस तरह की चीजों को और ख़राब बनाती हैं. इस बीमारी की विशेषताएँ नजर आने पर आपको तुरंत किसी विशेषज्ञ से संपर्क करना चाहिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your name here
Please enter your comment!