रिएलीटी शो (Reality Show) हमारे देश में इस समय एक ऐसी रिएलीटी बन गया है जिसके हैरान करने वाले नतीजे आ रहे हैं। बड़े तो इसके गिरफ्त में है हीं बच्चे भी इसके आकर्षण से बच नहीं सके हैं। बचते भी कैसे जब बहुत सारे शो सिर्फ बच्चों को लुभाने वाले भी आते हैं। जाहीर है प्रोड्यूसर्स मोटा मुनाफा कमा रहे हैं। पैसे को प्राथमिकता देने के कारण ही समाज पर पड़ने वाले इसके दुष्प्रभावों को नजरंदाज किया रहा है। इस लेख में हम इसी विषय पर बात करेंगे कि कैसे सामाजिक जटिलताओं से अंजान हमारे बच्चों पर ये बुरा असर डाल रहा है।

Reality Show से आपके बच्चों पर पड़ रहा है ये हैरान करने वाला असर

कोमल बालमन को उकसाना

बच्चों का मन कोमल होता है। बालमन किसी भी चीज को जब पहली बार देखता है तो उसके असर से अपरिचित होता है। जाहीर है हमारे यहाँ के रिएलीटी शोज में इस तरह के दृश्य दिखाए जाते हैं जिसे देखकर बच्चे कई बार जिद पकड़ लेते हैं। उन्हें लगता है कि जैसा दिखाया जा रहा है वैसा उन्हें भी करना चाहिए। ऐसे में भावुक होकर गार्जियन भी कई बार गलत फैसले ले लेते हैं।

बच्चों को बेवजह भावुक करना

कई बार भारतीय टीवी के रिएलीटी शोज में ऐसे भावुक दृश्य दिखाए जाते हैं जिनसे बच्चे बहुत प्रभावित होते हैं। उन बनावटी दृश्यों को देखकर बच्चों को लगता कि ऐसा सचमुच में हो रहा है। उस दृश्य से वे पूरी तरह कनेक्ट हो जाते हैं। और उससे प्रभावित होकर दुखी रहने लगते हैं। जाहीर है बेवजह दुखी होने से मानसिक स्तर पर उन्हें नुकसान पहुंचता है।

Reality Show गलत दिशा दिखाता है?

ज़्यादातर बार ऐसा होता है कि बच्चे रिएलीटी शोज को देखकर उसी तरह का काम करना चाहते हैं। हलांकी ये कोई गलत बात नहीं है लेकिन दिक्कत तब होती है जब अलग-अलग रिएलीटी शो देखकर अलग-अलग तरह का रिएक्शन देते हैं। एक तरह से देखा जाए तो बच्चे ऐसी बातों से भ्रमित हो जाते हैं और इससे कई बार मुश्किल परिस्थितियाँ उत्पन्न हो जाती हैं।

Reality Show से आपके बच्चों पर पड़ रहा है ये हैरान करने वाला असर

मनोवैज्ञानिक रूप से परेशान करना

वयस्क तो काफी हद तक रिएलीटी शोज के बनावटीपन से वाकिफ होते हैं लेकिन बच्चे इसे सच मान बैठते हैं। इसकी वजह से वो इनके द्वारा काही जाने वाली बातों से इस कदर प्रभावित हो जाते हैं कि उन्हें समझाना पैरेंट्स के लिए मुश्किल हो जाता है। कई बच्चे डिप्रेशन में चले जाते हैं तो वहीं कुछ बच्चे केवल टीवी से ही चिपके रहते हैं।

ग्लैमर से प्रभावित हो जाना

बच्चे जो इन रिएलीटी शोज में पार्टीसिपपेट करते हैं वो वहाँ के चकाचौंध से भ्रमित हो जाते हैं। वहाँ का माहौल बच्चों को तात्कालिक रूप से खुश करने के लिए इस तरह का बना दिया जाता है कि वो भ्रमित हो जाते हैं। और घर आकार भी वैसे ही माहौल की कल्पना करने लगते हैं। जाहीर है ऐसे में भी कई मुश्किलें आती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your name here
Please enter your comment!