क्या आपको हस्तमैथुन (Masturbation) से जुड़ी ये बात पता है?
प्रतिकात्मक चित्र

हमारे यहाँ तो हस्तमैथुन (Masturbation) और सेक्स जैसे विषयों पर आज भी लोग बात करने से हिचकिचाते हैं. लेकिन अमेरिका में प्रचलित सोशल मिडिया साईट रेडिट पर इन विषयों को लेकर कम्युनिटी बनी है  बना है. इस कम्युनिटी का नाम NoFap है और इससे अब तक 2,30,000 से ज्यादा लोग जुड़ चुके हैं.

क्या आपको हस्तमैथुन (Masturbation) से जुड़ी ये बात पता है?
प्रतिकात्मक चित्र

Masturbation और NoFap का कनेक्शन

दरअसल NoFap में No का मतलब तो नहीं है लेकिन Fap शब्द 1999 के जापानी कॉमिक से हस्तमैथुन के पर्यायवाची के रूप में लिया गया है. इस कम्युनिटी में जुड़ने वाले पुरुषों में ज्यादातर हस्तमैथुन के साथ-साथ सेक्स से भी दूर रहने का कैम्पेन चला रहे हैं. इसकी वजह ये लोग सुपर पॉवर हासिल करना बता रहे हैं. इनका कहना है कि पोर्न सेक्स की लत खतरनाक हो सकती है. इस कम्युनिटी में कई विशेषज्ञ भी जुड़े हैं और ये लोग भी अपना सुझाव लोगों को दे रहे हैं.

इस कम्युनिटी की शुरुवात सन 2011 में हुई थी. इस कम्युनिटी की सबसे ख़ास बात है कि इससे कई धार्मिक समूह भी जुड़े हैं. यदि सच कहें तो ये ऑनलाइन स्वास्थ्य से सम्बंधित समस्याओं से निजात पाने का जरिया बनता जा रहा है. इससे जुड़ने वाले लोग इसलिए भी बढ़ रहे हैं क्योंकि इस आप चाहें तो अपनी पहचान गुप्त रख सकते हैं. इसलिए लोग खुलकर अपने सवाल पूछते हैं. इस समूह में अक्सर पोर्नोग्राफ़ी, मास्टर्बेशन और ऑर्गेज़म आदि विषयों पर बातें होती हैं. इसे संक्षेप में यहाँ पीएमओ कहते हैं.

क्या कहते हैं समर्थक?

जाहिर है ऐसे मुद्दे पर समाज में एक से ज्यादा राय बन जाती है जिसे मुख्य रूप से सहमत और असहमत लोगों में बाँट सकते हैं. तो इस मुहीम का समर्थन करने वाले लोग कहते हैं कि यदि आप पीएमओ से नियमित रूप से बचते हैं तो आपके शरीर में टेस्टास्टरोन का स्तर बढ़ता है. उनका ये भी कहना है कि इससे आपकी ताकत नष्ट होने से बच जाती है.

क्या आपको हस्तमैथुन (Masturbation) से जुड़ी ये बात पता है?
प्रतिकात्मक चित्र

क्या कहते हैं आलोचक?

अभी ये तो बता दिया कि समर्थकों का क्या तर्क है. अब आपको ये भी बता देते हैं कि जो इस मुहीम से इत्तेफाक नहीं रखते हैं उनका क्या राय है. उनका स्पष्ट मानना है कि ये कोई बिमारी नहीं है जिसे ठीक करने की जरूरत है. उनका तर्क है कि यदि पोर्न और सेक्स की लत बिमारी होती तो इसे भी इलाज के दायरे में रखा जता. लेकिन ये कुछ शोध में कहा गया है कि पोर्न दिमाग को अल्कोहल की तरह ही प्रभावित करता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here